गुरु मँत्र क्यो आवश्यक है? (Guru Mantra Importance)


क्या कारण है कि लोगों को मंत्र गुप्त रखने के लिए कहा जाता है?

मंत्र दीक्षा का अर्थ है कि जब तुम समर्पण करते हो तो गुरु तुममें प्रवेश कर जाता है, वह तुम्हारे शरीर, मन, आत्मा में प्रविष्ट हो जाता है। गुरु तुम्हारे अंतस में जाकर तुम्हारे अनुकूल ध्वनि की खोज करेगा। वह तुम्हारा मंत्र होगा। और जब तुम उसका उच्चारण करोगे तो तुम एक भिन्न आयाम में एक भिन्न व्यक्ति होओगे।

जब तक समर्पण नहीं होता, मंत्र नहीं दिया जा सकता है। मंत्र देने का अर्थ है कि गुरु ने तुममें प्रवेश किया है, गुरु ने तुम्हारी गहरी लयबद्धता को, तुम्हारे प्राणों के संगीत को अनुभव किया है। और फिर वह तुम्हें प्रतीक रूप में एक मंत्र देता है जो तुम्हारे अंतस के संगीत से मेल खाता हो। और जब तुम उस मंत्र का उच्चार करते हो तो तुम आंतरिक संगीत के जगत में प्रवेश कर जाते हो, तब आंतरिक लयबद्धता उपलब्ध होती है।

मंत्र तो सिर्फ चाबी है। और चाबी तब तक नहीं दी जा सकती जब तक ताले को न जान लिया जाए। मैं तुम्हें तभी चाबी दे सकता हूं जब तुम्हारे ताले को समझ लूं। चाबी तभी सार्थक है जब वह ताले को खोले। किसी भी चाबी से काम नहीं चलेगा। प्रत्येक आदमी विशेष ढंग का ताला है, उसके लिए विशेष ढंग की चाबी जरूरी है।

यही कारण है कि मंत्रों को गुप्त रखा जाता है। अगर तुम अपना मंत्र किसी और को बताते हो तो वह उसका प्रयोग कर सकता है । यही कारण है कि लोगों को अपने— अपने मंत्र गुप्त रखने चाहिए, उन्हें सार्वजनिक बनाना ठीक नहीं है। वह खतरनाक है। तुम दीक्षित हुए हो तो तुम जानते हो, तुम उसका मूल्य जानते हो, तुम उसे बांटते नहीं फिर सकते। यह दूसरों के लिए हानिकर हो सकता है। यह तुम्हारे लिए भी हानिकर हो सकता है। इसके कई कारण हैं।

पहली बात कि तुम वचन तोड़ रहे हो। और जैसे ही वचन टूटता है, गुरु के साथ तुम्हारा संपर्क टूट जाता है। फिर तुम गुरु के संपर्क में नहीं रहोगे। वचन पालन करने से ही सतत संपर्क कायम रहता है। दूसरी बात, दूसरे को बताने से, दूसरे के साथ उसके संबंध में बातचीत करने से मंत्र मन की सतह पर चला आता है और उसकी गहरी जड़ें टूट जाती हैं। तब मंत्र गपशप का हिस्सा बन जाता है। और तीसरा कारण है कि गुप्त रखने से मंत्र गहराता है। जितना गुप्त रखोगे वह उतना ही गहरे जाएगा; उसे गहरे में जाना ही होगा।

मारपा के संबंध में खबर है कि जब उसके गुरु ने उसे गुह्य मंत्र दिया तो उससे वचन ले लिया कि वह उसे बिलकुल गुप्त रखेगा। उसे कहा गया कि तुम इसे किसी को भी नहीं बताओगे। फिर मारपा का गुरु उसके स्वप्न में प्रकट हुआ और उसने पूछा कि तुम्हारा मंत्र क्या है? 

और स्‍वप्‍न में भी मारपा ने वचन का पालन किया; उसने बताने से इनकार कर दिया। और कहा जाता है कि इस भय से कि कहीं स्वप्न में गुरु फिर प्रकट हों या किसी को भेजें और वह इतनी नींद में हो कि गुप्त मंत्र को प्रकट कर दे और वचन टूट जाए, मारपा ने बिलकुल सोना ही छोड़ दिया। वह सोता ही नहीं था।

ऐसे सोए बिना मारपा को सात— आठ दिन हो गए थे। फिर जब उसके गुरु ने पूछा कि तुम सोते क्यों नहीं हो? मैं देखता हूं कि तुमने सोना छोड़ दिया है। बात क्या है? मारपा ने गुरु से कहा : आप मेरे साथ चालबाजी कर रहे हैं। आपने स्वप्न में आकर मुझसे मेरा मंत्र पूछा था। मैं आपको भी नहीं बताने वाला हूं। जब वचन दे दिया तो मैं उसका स्‍वप्‍न में भी पालन करूंगा। लेकिन फिर मैं डर गया। नींद में, कौन जाने, किसी दिन मैं भूल जा सकता हूं!

अगर तुम अपने वचन के प्रति इतने सावधान हो कि स्‍वप्‍न में भी उसका स्मरण रहता है तो उसका अर्थ है कि वह गहराई में उतर रहा है। वह अंतस में उतर रहा है; वह अंतरस्थ प्रदेश में प्रवेश कर रहा है। और वह जितनी गहराई को छुएगा, वह उतना ही तुम्हारे लिए चाबी बनता जाएगा। क्योंकि ताला तो अंतर्तम में है।

किसी चीज के साथ भी प्रयोग करो। अगर तुम उसे गुप्त रख सके तो वह गहराई प्राप्त करेगा। और अगर तुम उसे गुप्त न रख सके तो वह बाहर निकल आएगा। तुम क्यों कोई बात दूसरे से कहना चाहते हो? तुम क्यों बातें करते रहते हो?

सच तो यह है कि जिस चीज को तुम कह देते हो, उससे मुक्त हो जाते हो। एक बार तुमने किसी से कह दिया, तुम्हारा उससे छुटकारा हो जाता है। वह चीज बाहर निकल गई। मनोविश्लेषण का पूरा धंधा इसी पर खड़ा है। रोगी बोलता रहता है और मनोविश्लेषक सुनता रहता है। इससे रोगी को राहत मिलती है। वह अपनी समस्याओं के बारे में, अपने दुख के बारे में जितना ही बोलता है, वह उनसे उतनी ही छुट्टी पा लेता है।

और इसके ठीक विपरीत घटित होता है जब तुम किसी चीज को छिपाकर रखते हो, गुप्त रखते हो। इसीलिए तुम्हें कहा जाता है कि मंत्र को किसी से कभी मत कहो। तब वह गहरे से गहरे तल पर उतरता जाता है और किसी दिन ताले को खोल देता है।

~~~~~~~~~~~~

Same in English

What is the reason why people are asked to keep the mantra secret?

Mantra initiation means that when you surrender, the Guru enters you, he enters your body, mind, soul. The Guru will go inside you and find the sound that suits you. That will be your mantra. And when you pronounce it, you will be a different person in a different dimension.

Unless there is surrender, the mantra cannot be given. Chanting a mantra means that the Guru has entered into you, the Guru has felt your deep harmony, the music of your life. And then he symbolically gives you a mantra which matches with the music within you. And when you chant that mantra you enter the world of inner music, then inner harmony is achieved.

Mantra is just the key. And the key cannot be given until the lock is known. I can give you the key only when I understand your lock. The key is useful only when it opens the lock. Any key will not work. Every man is a special kind of lock, for him a special kind of key is necessary.

This is the reason why mantras are kept secret. If you tell your mantra to someone else, he can use it. This is the reason why people should keep their mantras secret, it is not right to make them public. that's dangerous. If you have been initiated, you know, you know its value, you cannot go on sharing it. It can be harmful to others. It can be harmful for you too. There are many reasons for this.

The first thing is that you are breaking a promise. And as soon as the word is broken, your contact with the guru is lost. Then you will not be in contact with the guru. Constant contact is maintained only by keeping the word. Secondly, by telling the other, talking about it with the other, the mantra comes to the surface of the mind and its deep roots are broken. The mantra then becomes part of the gossip. And the third reason is that keeping the secret deepens the mantra. The more you keep a secret, the deeper it goes; He has to go deep.

It is reported about Marpa that when his master gave him the secret mantra, he took a promise from him that he would keep it completely secret. He was told that you will not tell it to anyone. Then Marpa's guru appeared in his dream and asked what is your mantra?

And even in the dream Marpa kept the word; He refused to tell. And it is said that because of the fear that the guru may appear again in a dream or send someone and he is so sleepy as to reveal the secret mantra and the word is broken, Marpa gave up sleeping completely. He didn't even sleep.

Marpa had gone seven or eight days without sleeping like this. Then when his master asked why don't you sleep? I see that you have given up sleeping. What is the matter? Marpa said to the master: You are playing tricks on me. You asked me my mantra in a dream. I'm not going to tell you either. When I have given a promise, I will follow it in my dream also. But then I got scared. In my sleep, who knows, someday I might forget!

If you are so mindful of your word that it is remembered even in dreams, it means that it is going down deep. He is finally descending; He is entering the inner realm. And the deeper he touches, the more he becomes the key to you. Because the lock is at the bottom.

Use it with anything. If you can keep it a secret, it will gain depth. And if you can't keep it a secret, it will come out. Why do you want to say something to someone else? why do you keep talking?

The truth is that whatever you call it, you get rid of it. Once you have told someone, you get rid of him. That thing went out. The whole business of psychoanalysis stands on this. The patient keeps on talking and the psychoanalyst keeps on listening. This gives relief to the patient. The more he talks about his problems, the more he gets rid of them.

And the exact opposite happens when you keep something hidden, keep it secret. That's why you are told never to say the mantra to anyone. Then he descends deeper and deeper and someday opens the lock.,

📖 वैदिका 🚩

Post a Comment

0 Comments